–राजगोपाल सिंह वर्मा 

आज खूबसूरत है,
और कल ?
कौन जानता है,
ना तुम,
ना मैं,
शाश्वत हैं सिर्फ,
यह पल,
बस !

Advertisements