ख़ामोशी भी,
अहसास है एक,
खूबसूरत,
प्यार का,
नि:शब्दता,
से बढ़कर,
कुछ और नहीं,
कभी-कभी !
–राजगोपाल सिंह वर्मा 
Advertisements